डेंगू का प्रकोप: फिरोजाबाद प्रशासन ने तालाबों में मच्छरों के लार्वा खाने वाली गंबुसिया मछली को छोड़ा

फिरोजाबाद प्रशासन जिले में डेंगू और वायरल बुखार के प्रसार को रोकने के लिए तालाबों में मच्छरों के लार्वा खाने वाली लगभग 25,000 मच्छरों को छोड़ रहा है।

जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि डेंगू और वायरल बुखार के घातक प्रकोप से अब तक 51 लोगों की जान ले चुका है, फिरोजाबाद जिला प्रशासन बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए तालाबों में डेंगू पैदा करने वाले मच्छरों के लार्वा खाने वाली लगभग 25,000 मच्छरों को छोड़ रहा है। सोमवार।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) दिनेश कुमार प्रेमी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि जिला स्वास्थ्य अधिकारियों ने जिले के शहरी और ग्रामीण इलाकों के तालाबों में सामान्य रूप से गंबुसिया के नाम से जानी जाने वाली मछलियों को छोड़ना शुरू कर दिया है।

उन्होंने कहा कि शुरुआत में बदायूं से 50 पैकेट मछली बीज प्राप्त किए गए हैं।

प्रेमी ने कहा कि बरेली और बदुआन जिलों में इसकी सफलता को देखते हुए जिला प्रशासन इस प्रयोग के साथ आगे बढ़ रहा है।

सीएमओ ने बताया कि एक गंबूसिया मछली रोजाना करीब 100 लार्वा खाती है।

उन्होंने कहा कि यह उपाय मलेरिया के खिलाफ भी प्रभावी होगा।

उत्तर प्रदेश के जिले में एक पखवाड़े से अधिक समय में डेंगू और वायरल बुखार ने 51 लोगों की जान ले ली है। सैकड़ों लोग बीमारियों का इलाज भी करा रहे हैं।

जिलाधिकारी चंद्र विजय सिंह ने हाल ही में स्वास्थ्य एवं नगर निगम के अधिकारियों को कूलर, गमले और अन्य बर्तनों में जमा पानी को बाहर निकालने के लिए घर-घर जाकर सर्वे करने का निर्देश दिया था.

STORY BY -: indiatoday.in

यह भी पढ़ें…भ्रष्ट लोक सेवकों की जांच से पहले पुलिस अधिकारी पूर्वानुमति लें: केंद्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *